Total Pageviews

Sunday, June 27, 2010

GET WELL SOON ... भैया





प्रभु ... हम पे दया करना ...

.... कल शाम से मन बड़ा उदास है.... भैया की सेहत नासाज़ होने की जानकारी मिलने के बाद पूरे ''सिंह सदन'' में चिंताओं और प्रार्थनाओं का दौर चल रहा है ! भैया की सेहत से बढ़कर ख़ुशी और नियामत हमारे लिए और कोई नहीं हो सकती !

.....पता नहीं क्यों .... पर मुझे अक्सर लगता है सारी योग्यताओं और उपलब्धियों के बावजूद .... भैया को कभी भी जीवन में वह सुकून और आराम नहीं मिल सका .... जो एक ''इंसानी जिस्म'' के लिए बहुत आवश्यक होता है !मुझे हमेशा इस बात का अफ़सोस होता है ! हर नज़रिए से भैया और बेहतर ज़िन्दगी ''डिजर्व'' करते हैं !

....बचपन से ही ''बड़े'' होने के नाते ... उन पर जिम्मेदारियों का बड़ा बोझ रहा .... और उन्होंने कभी भी इन जिम्मेदारिओं और अपने फ़र्ज़ से मुंह नहीं मोड़ा ! ... साथ ही पढ़ाई ... और उसके बाद कैरियर निर्माण का अतिरिक्त दबाव ! इन सबके साथ - साथ पूरी सामाजिक और पारिवारिक जिम्मेदारियां !

..... अब मुझे एहसास होता है ...कि मुझे और बेहतर ढंग से उनका साथ निभाना चाहिए था ! .... पर अब क्या हो सकता है ! वक़्त बड़ा बेरहम होता है .... यह कभी दोबारा लौटकर नहीं आता ! जो इसका सही इस्तेमाल नहीं करते उनके पास पश्चाताप और हाथ मलने के अलावा शायद और कुछ नहीं बचता ! मैंने भैया के साथ अन्याय किया ..... और ईश्वर ने मेरे साथ अन्याय किया .... शायद यही प्रारब्ध है ..... यही नियति है ... यही संचित कर्मों का फल है !

....शादी के बाद भी भैया बहुत से घरेलू कार्य और बच्चों की देखभाल जैसे बहुत से कार्य स्वयं करते हैं ! वे वास्तव में ऊँचे आदर्शों वाले व्यक्ति हैं ... जिनकी ''कथनी'' और ''करनी'' में कोई फर्क मैंने कभी नहीं देखा ! वे दूसरों से अपनी सेवा करवाना कभी पसंद नहीं करते ! अपने ऊपर ज्यादा बोझ डालते - डालते और दूसरों की सेवा करते - करते उन्होंने अपने शरीर को बहुत बुरी तरह थका डाला है !

''आई. ए. एस. एकेडमी'' का थकाऊ और मेहनतकश शेडयूल उन्हें और थकायेगा ! ''सिंह सदन'' के हर सदस्य का फ़र्ज़ बनता है... कि भैया की अधिकाधिक सेवा कर उन्हें चुस्त - दुरुस्त बनाये .... उनकी जिम्मेदारियों में हाथ बटाकर उन्हें आराम पहुंचाए ! रमन सिंह को सपत्नीक उनका ख्याल रखने के लिए रवाना कर दिया गया है ! वे मसूरी पहुँच गए हैं ! सबसे बड़ी जिम्मेदारी भाभी ... इशी... और लीची के कन्धों पर है .... जो उनके साथ हैं !

....भैया हमें हमारी उन ज्यादतियों और अन्यायों के लिए .... हो सके तो क्षमा करना ... जो हमने जाने - अनजाने आपके साथ कर डाले हैं ! हम आपको वह ज़िन्दगी नहीं दे सके हैं .... जिसके वास्तव में आप हकदार हैं ! आपके स्वास्थ्य लाभ के लिए हम हर क्षण चिंतित हैं .... और परम पिता परमेश्वर से दुआ कर रहे हैं ! .... बस आप प्रसन्न रहें ... और आराम करें ... और हो सके तो कुछ भार हमारे तुच्छ कन्धों पर भी डालें !

* * * * * PANKAJ K. SINGH

4 comments:

SINGHSADAN said...

हम सब लोग भैया की सलामती और बेहतर स्वास्थ्य लाभ की कामना कर रहे है.बबलू भैया को भेज कर बहुत अच्छा किया.सच मैं उनको आराम करने की ही जरुरत है.थकाऊ ट्रेनिग के बाद बच्चो और भाभी को समय देना वाकई में मुशिकल पैदा कर रहा है.इस बात को भैया को भी समझना होगा.यहाँ सब के सहयोग की जरुरत है.HIRDESH

Neha (Bitiya) said...

बड़े भैया जल्दी स्वस्थ हो जाएँ मैं इश्वर से प्रार्थना करती हूँ.........
भैया आप वाकई बहुत सच्चे इंसान हैं ........
आपका हर शव्द मुझे प्रेरणा देता है..........
आपका और बड़े भैया का रिश्ता सदैव प्रेम और विश्वाश से परिपूर्ण रहे ............
शुभकामनाएं............

ShyamKant said...

भैय्या, आप महान हैं ................
मुझे पूरी उम्मीद है कि आप जल्दी सही हो जायेंगे ......................
आप की तबीयत सही हो जाये ऐसा हम सब चाहते हैं .............
आपको मेरी भी उम्र लग जाये आप लोगों के आदर्श हैं आप की आवश्यकता सभी को है..........
पूरे भारत को......... हम तो कुछ नहीं हैं...............
आप हमारे भैय्या हैं ये हमारे लिए वरदान है...........

amit said...

भैया जी चरण स्पर्श ,
कल मै जब मैनपुरी आया तो आपके स्वाश्थ्य के बारे मै पता चला तो बड़ा दुःख हुआ जानकर,हम सभी लोग बड़े दुखी है,और भगवान से कामना करते है कि आप जल्दी ही स्वस्थ हो जायेंगे.और हम लोगो को आपके मार्ग दर्शन क़ी बहुत जरूरत है,

आपका छोटा भाई
चिंटू