Total Pageviews

Thursday, December 15, 2011

COMPREHENSIVE PERSONALITY TEST REPORT CARD 2011



VOLUME -- 17 
HON. JIYA...
....एक ऐसी महिला जिसने आदर्शों को जीवन में ऐसे समेट लिया है कि कोई काम वे इसलिए नहीं करतीं कि वो आदर्श कहता है, दरअसल वो जो करती हैं वही आदर्श होता है. उनके सामान्य से चेहरे के पीछे असाधारण त्याग, प्यार ,ममत्व और जिन्दगी से जद्दोजहद का वो हौसला छुपा है जो 'मामी' और 'मम्मी' के फर्क को कम से कमतर कर देता है........!
----श्री पवन कुमार ( प्रख्यात प्रशासक, चिन्तक, लेखक एवं शायर ) 

...उन्होंने आपने जीवन में आपने किसी दिल नहीं दुखाया और सारे  रिश्तो नातो को बखूबी निभाया और कभी किसी चीज़ की कोई
चाहत नहीं की | मनो उन्हें हर चीज़ से बैराग हो|                     
........पुष्पेन्द्र सिंह  (जाने माने गीतकार एवं एसोसियेट एडिटर CPTR-2011 )

मैंने अपने जीवन काल में जिन कुछ ... अति पूज्यनीय और महानतम श्रेष्ठ महिलाओं के दर्शन किये हैं ....'' जिया'' उनमे बहुत ऊंचे स्थान पर हैं ..... मैंने वास्तव में ऐसी ऊंचे आदर्शों वाली .. ममता मयी ... त्यागी.. स्त्री नहीं देखी...!अपने होश सँभालने से लेकर आज तक मैंने उन्हें किसी से भी अपने लिए कभी कुछ मांगते ... फरमाइश करते नहीं देखा...
...... पंकज के .सिंह ( एडिटर,CPTR-2011,क्रिकेटर एवं फिल्म क्रिटिक )


......... यूँ तो हमारे कुटुंब में मामियों के .... चरण स्पर्श नहीं किये जाते .... परन्तु ऐसी दुर्लभ .... साक्षात देवी स्वरूपा ...'' जिया '' के चरणों में .... मैं अपना शीश रखता हूँ ..... और उनसे पुरे '' सिंह सदन कुटुंब'' की और से क्षमा मांगता हूँ .... हे '' जिया '' ...हम जीवन भर तुमसे सदैव लेते ही रहे .... तुम्हारे लिए कुछ न कर सके ...... तुम्हारे प्रेम स्नेह की तुलना मैं तो हम वैसे भी कोई प्रतिउत्तर दे नहीं सकते ..... तुम कुछ मांगती भी नहीं ......!
.... पंकज के .सिंह ( एडिटर,CPTR-2011,क्रिकेटर एवं फिल्म क्रिटिक )

इन  कथनों से जिया के दिव्य स्वरुप सहज ही अंदाजा लग जाता है  !अगर बात गुणों की हो तो २४ कैरेट खरा सोना हैं जिया ..! कोई उनके आस पास भी नहीं दीखता !
... व्यावहारिक जिंदगी में भले ही ऐसे व्यक्तित्व  आपको भौतिक रूप से   बहुत  सफल न दिखे पर यकीन मानिए असली जिंदगी इन्होने ही जी है ..और यदि वर्तमान जीवन के  कर्मों  के लेखे जोखे को ही  अगले जन्म के   भाग्य का ओपनिंग स्टोक माने ...तो  मैं पूर्ण आश्वस्त हूँ कि जिया  विश्व की टॉप ५० महिलाओं में होंगी  !

तो आइये ...और बेहतर ढंग से जान लें  आज अपनी प्रिय जिया को ...   


COMPREHENSIVE PERSONALITY TEST REPORT CARD OF JIYA  ....
  • 1. व्यक्तित्व  ** 1.5
  • 2. रिश्तों में मर्यादा एवं उत्तरदायित्व की भावना * * 3.5
  • ३. जीवन मूल्यों के प्रति आग्रह * * 3.5
  • ४.  भौतिक उपलब्धियां * * 2.00
  • ५.  लोक जीवन एवं सार्वजनिक छवि * * 2.75
  • ६.  स्वास्थ्य एवं अनुशासन * * 1.5
  • ७. जीवन में आध्यात्मिकता एवं चिंतन शीलता * 2
  • ८ . सत्य का अनुश्रवण एवं सत्य का साथ देने की क्षमता *  1.75
  • ९.  जनहित एवं सेवा भावना * 3.75
  • १०.  आत्मविश्वास एवं प्रतिकूल परिस्थितियों से जूझने की क्षमता * * 1.75
  • ११. निर्विकार एवं निर्दोषता * **** 5.0
  • १२. जिज्ञासु एवं नित नया सीखने की ललक *  2
  • १३. रचनात्मकता * 2.25
  • १४. वाक् निपुणता एवं भाषण शैली *  1.25
  • १५ .आत्म द्रष्टि एवं दूरद्रष्टि * 1.75
  • १६. साहस एवं निर्भीकता *  1.5
  • १७. सिंह सदन के गौरव को बढ़ाने में योगदान * 1.75
  • १८. अन्य सदस्यों  को प्रेरित करने की नेतृत्व  क्षमता * 1.5
  • १९.  प्रगतिशील द्रष्टिकोण एवं निरंतर प्रगति की ललक * 1.25
  • २०. निस्वार्थ एवं कपट रहित जीवन ***** 5.0
  •  TOTAL SCORE IS ..... 47.25

STATUS REPORT-- जिया का कहीं कोई मुकाबला ही नहीं है ! किसी प्रकार के दुर्गुण या दोष  ने  उन्हें  छुआ तक नहीं है ! सिंह सदन विभूषण हैं जिया ! उनके दर्शन लाभ मात्र से हम धन्य हैं !    
CADRE --- सम्पूर्ण साध्वी , सेवा भाव  की सर्व सिद्ध प्रतीक !    
NEGATIVE FACTOR--- उनके दोष वास्तव में उनके न होकर आज के समाज के हैं... हमारे हैं ! उनके गुणों को आज के युग की स्त्रियाँ या पुरुष भले ही अतिवादी या निजी आनंद में खलल माने पर हम जिया में  त्रुटि निकालकर  अपना ये लोक और परलोक कदापि ख़राब नहीं करेंगे !   
MODEL --- मदर तरेजा , जिया ! 

*****PRESENTED BY  PANKAJ K. SINGH(EDITOR,CPTR-2011) & PUSHPENDRA SINGH (ASSOCIATE EDITOR, CPTR- 2011)

4 comments:

Anonymous said...

अम्मा के बाद जिया पर भरा पूरा आलेख..... अम्मा के 43.04 अंको से कहीं आगे 47.25 अंक.... हैरानी है , सही और सच्चा व्यक्तित्व आंकलन किया गया है उनका.
वाकई सच्चाई और कितनी ख़ामोशी से जिया ने अपना जीवन जिया है , कहीं कोई चमक दमक का लालच नहीं....! हमेशा परिवार के प्रति लगाव और निष्ठा, बिना किसी पूर्वाग्रह के हरेक व्यक्ति से प्यार स्नेह ममत्व..... उनके पास जाने पर उनके विशाल मन और छोटी दुनिया का एहसास होता है.... उन्हें दुनिया की फ़िक्र नहीं क्योंकि उनकी दुनिया तो हम सब तक सिमटी हुई है.......! चूल्हा - चौका- आँगन- चारा - पोए ..... इससे ज्यादा उनकी दुनिया हो नहीं पाई और यही दुनिया उन्होंने मुकम्मल भी कर ली. अच्छी माँ, बहू, भाभी, मामी, सास, दादी नानी, जेठानी.... सब कुछ जिया है उन्होंने मर्यादाओं के साथ. हर रिश्ते को बखूबी निभाया है उन्होंने.

प्रसंगवश------
सिंह सदन के सुप्रीमो, जिनके मुंह से शायद ही किसी व्यक्ति के लिए सद्वचन निकलें उनके मुंह से भी जिया के लिए सम्मानजनक शब्द निकलना इस बात का प्रमाण है की जिया अद्भुत हैं..... सर्वकालिक महान हैं...!
बेहतरीन आलेख के लिए आप दोनों का आभार.

PK

SACHIN SINGH said...

AMMA JI KA PAAWAN CHARNO MEIN SHAT-2
NAMAN...AAP YUH HUM SAB PAR PREM KI
BAARISH KARTI RAHE...!!!!

THANKS CHACHA JI FOR UR INCREDIBLE POST.

psingh said...
This comment has been removed by the author.
psingh said...

परम आदरणीय भैया
बहुत खूब अति सुन्दर आलेख
सभी विद्वानों के मत माता जिया को निश्चित तौर पर जिया को
महान महिलाओं की श्रेणी में ला खड़ा करते है
और जिन विन्दुओं पर व्यक्तित्व परीक्षण हुआ है वे पूर्णतः
खरी उतरी है |
वे वाकई दया और प्यार की मूर्ति है
पुरे गाँव में एक भी व्यक्ति आपको
ढूंढने से भी एसा नहीं मिलेगा जो जिया की कोई कमी बता सके
उनकी तो दुश्मन भी तारीफ करते नहीं थकते |
मै उंहें कोटि कोटि प्रणाम करता हूँ और
इश्वर का धन्यवाद करता हूँ कि मुझे
एसी महान माँ कि कोख से जन्म दिया है
मै सदीव ऋणी रहूँगा |