Total Pageviews

Monday, April 26, 2010

एक यादगार शादी ......................हृदेश परिणय प्रिया



अभी हाल ही में ११ फरवरी को

सिंह सदन के आंगन में एक भव्य

समारोह का आयोजन हुआ !

यह आयोजन हमारे छोटे भाई ह्रदेश की शादी थी शादी का जश्न

कुछ एसे मनाया गया किये एक यादगार शादी बन गयी जैसे ही शादी की डेट फ़ाइनल हुई सभी रिश्तेदरो में मनो बहार आगयी हो हर तरफ ख़ुशी का माहौल और तैयारियों का सिलसिला चरम पर था शादी की बागडोर संभाली हमारे आदरणीय बड़े भैया पवन जी ने जो लाखों व्यस्तताएं होने के बाबजूद भी एक हफ्ते पहले घर पहुंचे और शादी का पूरा प्रारूप तैयार किया हर छोटी से छोटी चीज़ का उन्होंने ध्यान रखा और अपने सुपरवीजन में युवाओं की एक मजबूत टीम तैयार की और सब को अपने अपने कम बाँट दिए गए

बड़े भइया के बारे में क्या कहूँ - में समझता हूँ की उनसे अच्छा काम कोई कर ही नहीं सकता चाहे वह किसी तरह का हो

अगर मुझसे पूछा जाये तो उनसे ज्यादा बुद्धिजीवी उनसे ज्यादा अच्छा इन्सान में किसी को नहीं समझता भइया जब हमारे साथ होते है तो लगता ही नहीं की वे इस देश के बेहतरीन -आई.ए.एस. आफीसर है........... एसा लगता है जैसे बचपन में भैया के साथ शरारत किया करते थे क्रिकेट खेला करते थे पानी के बतासे खाने देवीरोड सोहन के यहाँ जाते थे आज भी वैसा ही है शहर बदल गया मगर

भैया नहीं बदले ..........आज भी अपने भाईयों पर जान छिड़कते है .....................

खैर मै विषय पर आता हूँ भैया की इस टीम में श्यामू ,संदीप ,दिलीप, टिंकू, चिंटू, , आदि मुख्या भूमिका में थे

सभी ने भैया की तत्वावधान में काम करना अपना सौभग्य समझा और दिलो जान से काम किया

भैया जब भी कोई काम करते है तो उसमे कमी का सवाल ही पैदा नहीं होता शादी के पहले महिला संगीत का आयोजन बहुत भब्यता से हुआ जो भी महिलाये महिला संगीत में आयीं उन्होंने

कहा की इस तरह का महिला संगीत मैने पहली बार देखा है

हर प्रोग्राम में नया पन था महिला संगीत के बाद जो पुरुष संगीत का कार्यक्रम हुआ तो मजा ही आगया

रात्रि कब कट जाती थी पता ही नहीं चलता दिन में फिर उसी उत्साह से काम ......!

हमारे यहाँ बड़ी धूम धाम से एक रश्म होती है भात की ...........भात दरसल एक सम्मान होता है जो मान पक्ष को दिया जाता है इस बार भात की रश्म यादगार बन गयी जिस का श्रेय जाता है हमारे बड़े भैया के ससुर साहब माननीय संत साहब को

इस तरह की भात की रश्म मैने क्या जिसने भी देखा यही कहा एसा पहली बार देखा है .....

यूंतो भात सिर्फ दामाद और बेटी के लिए होता है मगर संत साहब इतने सामाजिक इन्सान है जिसका वर्णन यंहां

नहीं किया जा सकता ...... उन्हों ने भैया से पहले पूरे परिवार को ही नहीं वल्कि सारे रिश्तेदरों को भात पहनाया

और इतने सम्मान से जैसे उन्हें सब का सम्मान करने में फक्र महसूस हो रहा हो देखने वालों ने तो यंहां तक कहा

की एसा भात या तो .....नरसी ने पहनाया था या संत साहब ने

संत साहब के बारे में मै संक्षेप मै बताना चाहूँगा वे सेवानिवृत आई .ए. एस आफ़िसर है और वे और उनके पुत्र राजेश भैया

बहुत ही सामाजिक इन्सान है किसी भी कार्यक्रम मे हजारों व्यस्तताओं के बाबजूद बढ चढ़ कर भाग लेते है बहुत ही महान इन्सान है

हमारा पूरा परिवार उनका बहुत सम्मान करता है

"ऐसे महान संत साहब को मै प्रणाम करता हूँ"

आज वो दिन आही गया जिसका दुल्हे को इंतजार था सभी रिश्तेदार पहुँच चुके थे

बारात की तैयारी जोर शोर से चल रही थी भैया हर एक चीज को दौड़ दौड़ कर से स्वेम देख रहे थे ताकि कहीं कोई कमी न रह जाये देश का कोई भी कोना एसा नहीं था जहाँ से लोग न आये हों

सभी छोटे बड़ों का स्वागत भैया आप ही कर रहे थे बारात जब सज कर निकली तो सबसे पहले तैयार हुए हमारे सिंह सदन के आइकॉन .........

हमसब के प्यारे भैया मिस्टर स्मार्ट पंकज सिंह ................उन्हें देखते तो एसा लगरहा था कि कहीं उन्हें किसी की नजर न लगजाये सब की नजरें उनपर थी ६ फिट की हाईट और गजब की पर्सनालिटी वहीँ हमारा छोटा भाई हम सभी भाइयों का प्यारा आज्ञाकरी, बुद्दिमान, बहुमुखी प्रतिभा का धनी ........श्याम कान्त

तो एसा लगरहा था कि पूछो मत बेहद सुन्दर ...................


मगर इन सब से अलग हमारे बड़े भैया ......को तो देखते ही बन रहा था जैसे उन्हें सजने की जरुरत ही न हो बिलकुल सरल अंदाज चेहरे पर इतना तेज़
जिसे देख कर किसी की भी नजर फिसल सकती थी ..............मगर हमारी भाभी भी जी

कहाँ पीछे रहने बाली थी हूबहू ...काजोल... लगरही रही थी मानो शारुख....और काजोल की जोड़ी हो
और हमारा दूल्हा भी बिलकुल राज कुमार लग रहा था ...........................
बारात जैसे ही निकली ढोल नगाड़े और बंदूकों की आवाजों से आकाश गूंज उठा कुछ भी सुनाई नहीं दे रहा था
बारात की कतार लगभग २ किलोमीटर लम्बी थी चूँकि ये शादी लोकल की थी इस लिए भीड़ तो लाजमी थी
और यादव पेट्रोल पम्प से जो डांस का सिलसिला चला वह रुकने वाला नहीं था बच्चों से बूढ़े तक डांस में मस्त थे हमारे छोटे भाई श्यामू ने तो हद ही कर दी बहुत ही जोरदार डांस किया बगैर रुके
बड़े भइया और भाभी तो मैदान में ऐसे उतरे की शमां बांध दिया
मगर हमरे आइकॉन पंकज भैया पीछे रहने वाले नहीं थे ........बिलकुल नए अंदाज में
डांस कर रहे थे बिलकुल बप्पी दा इस्टाइल में
बारात गेस्ट हॉउस पहुची जहाँ लोग हमारे स्वागत के लिए ऑंखें बिछाए खड़े थे
मालाओं से बारातियों के गले लाद दिए गए लोगों ने जब दुल्हे को देखा तो निहाल हो उठेभोजन की व्यबस्था एसी की सब के मुंह से वाह...........वाह निकल रहा था
मगर अब जो हने वाला था वह मैनपुरी की जनता के लिए निश्चित ही अनोखा था जैमाल का कर्यक्रम शंखनाद घंटों की ध्वनी के साथ राउंड स्टेज पर किया गया
स्टेज पर खड़े वर वधू राजकुमार और राजकुमारी लग रहे थे
सभी ने वर वधू को आशीर्वाद दिया वर वधू को आशीर्वाद देने के लिए
सांसद शाहजहांपुर सांसद इटावा और सभी पड़ोसी जिलों के प्रसाशनिक अधिकारी पहुंचे
पूरी रात बारात के मजे लिए गए सुबह ८ बजे जब बिदा हुई तो सभी कि ऑंखें नम थी
इस वक़्त परमै समझता हूँ हर इन्सान कि ऑंखें नम हो ही जाती है
क्योंकि एक लड़की अपना सब कुछ छोड़ कर एक नए घर के लिए विदा होती है अव जोर का हंगामा होने वाला था बारात घर पहुंची तो दुल्हन का स्वागत गाजे बजे के साथ
किया गया और फिर जो डांस का सिलसिला चालू हुआ वह थमने वाला नहीं था पूरी टीम थकी होने के बाबजूद डांस के लिए उतर पड़ी मगर असली मजा तब आया जब दूल्हा डांस के इस माहौल मै शामिल हुआ......मानो उसको हर ख़ुशी मिल गयी हो
सबसे मजेदार बात यह रही कि शादी मे किसी तरह का कोई व्यवधान नहीं आया........ जो कम ही होता है पूरी शादी एक आदर्श शादी सिद्ध हुई जिसका पूरा श्रेय जाता है हमारे बड़े भैया माननीय पवन जी को जिन्हों ने रात दिन एक कर दिया और एसा करिश्मा वही कर सकते थे क्योंकि वे इन्सान नहीं अवतार है वे जिस काम को हाथ मे लेते है उसे इस तरह करते है कि कुछ कमी का सवाल ही नहीं उठता

इस शादी को यादगार बनाने मे पूरी सिंह सदन की पूरी टीम का योगदान है जिसमें -पंकज भैया,प्रमोद भैया, श्यामू,दिलीप,संदीप,राकेश जीजा ,विमलेश जीजा, टिंकू, बबलू भैया ,रबी. चिंटू,प्रमुख थे

बच्चे कहाँ पीछे रहने वाले थे इशी ,लीची ,अंशु ,गौरी,कौशल ,अक्षत,अदिति,निक्की ने जम कर शरारत की और पूरा आनंद लिया

गतिविधियाँ के लिए - पुष्पेन्द्र सिंह

3 comments:

SINGHSADAN said...

प्रिय पुष्प ...
विवाह का बेहद दिलचस्प वर्णन किया आपने .... यादगार लम्हों की ओर पुन: ले चलने के लिए शुक्रिया !
हृदेश और प्रिया सिंह सदन की गरिमा और ख़ूबसूरती में और चार - चाँद लगायें ..... ऐसी मेरी आकांछा ... और ऐसा ही मेरा आशीर्वाद है ..... ईश्वर दोनों को जीवन की तमाम खुशियाँ दे ... !
सप्रेम ..... पंकज के. सिंह

mainurinews said...
This comment has been removed by the author.
सत्यम न्यूज़ said...

पिंटू आपने खूब लिखा.सच में ये महोत्सव की तरह आयोजित की गयी.इस मामले में प्रिया और मैं वाकई में खुशकिस्मत हैं.बड़े भैया के बारे में जितना कहा जाये कम ही है.अब तो वे इस सब से बहुत ऊँचे उठ चुके हैं.शादी में ख़ुशी का रंग भरने और इसे यादगार बनाने का कम भैया ने ही किया.जीजा.दीदी.बबलू भैया.प्रमोद भैया.दीदी.दलीप.संदीप.बिट्टू.चिंटू.बिटिया.इशी.लीची.गौरी.लक्ष्मी.सभी ने इस शादी को यादगार के साथ एतिहासिक भी बना दिया.....पंकज भैया के चहरे पर बर्षों बाद इतनी ख़ुशी देख कर बस प्रिया और में यही प्रार्थना करते हैं कि सिंह सदन और इससे जुड़े हर शख्स को इश्वर हमेशा खुश रखे.